नन्हे सितारे

आपके बच्चे सिर्फ आपके बच्चे नहीं। आपके जरिये वे इस धरती पर आये जरूर हैं पर पूरे के पूरे आपके नहीं। आप उन्हें प्यार दे सकते हैं पर उनके विचारों को नियंत्रित नहीं कर सकते उनके रक्त-मांस के शरीर को पाल-पोसकर इत्ते-से इत्ता बना सकते हैं पर उनकी आत्मा को बांध नहीं सकते। इसलिए उन्हें अपने सांचे में ढालने की कोशिश कभी न करें; बल्कि चाहें तो कोशिश करें खुद उनकी तरह बनने की। जानी नाम तो सुना होगा माधव राय आरा जिला घर बा त कौन बात के डर बा... मस्ती फुल ऑन नन्हीं मुन्नी गुडिया हूँ, मैं शैतान की पुडिया हूँ सबकी राज़ दुलारी हूँ, ब्लॉगजगत की प्यारी हूँ। नन्ही चिड़िया सी चहकती अपनी राधा रानी, इतनी सुंदर इतनी प्यारी ये है हमारी पाख़ी||

No comments:

Post a Comment

अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो अपने विचार दे और इस ब्लॉग से जुड़े और अपने दोस्तों को भी इस ब्लॉग के बारे में बताये !